मैं और मेरा खुदा

 किसी से क्यों कहें हमने क्या खोया क्या पाया है ज़िंदगी मे

कोई कौन होता है मेरे और खुदा के दरमियाँ आने वाला

मैं तो बस मानता रहा हर कही इस दिल की

खुदा ही तो था कभी सब छिनने तो कभी सब देने वाला

नही बदल पाया कभी मैं, ज़ो लिखा था उसने

कुछ माथे तो कुछ हाथों की लकीरों में

वही है जिसने भेजा था ज़मीन पर सासें देकर

और वही होगा एक दिन मुझे मौत देने वाला

Facebook
Twitter
Google+
http://gauravkhare.com/?p=308">
LinkedIn
Follow by Email
SHARE

2 Commentsto मैं और मेरा खुदा

  1. Rishi says:

    Good Poem Dost! The very stark fact of life expressed in such nice wordings!

  2. Pari says:

    Hmm…..
    One more Good one..
    This is biggest fact of our life written above in your poem…
    Sorry for such a late feedback….
    But I must say..please keep on writing..dont take such a long breaks….
    All the best Dude…
    Waiting for the next lines from a good soul deep within you……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *